By Suman

Padma Awards 2021: रेगिस्तान में पेड़ लगाने से लेकर फल बेचने तक, इन अनजान सितारों को मिला पुरुस्कार

Instagram

राजस्थान के किसान और पर्यावरण प्रेमी हिम्मतराम भांभू (65) ने 25 बीघा जमीन पर 11,000 पेड़ों वाला जंगल खड़ा किया है और पांच साल में पांच लाख से जिसके के लिए पद्मश्री से सम्मानित किया गया है।

Instagram

Himmat Ram Bhambhu

कर्नाटक के 66 वर्षीय हरेकला हजब्बा ने पैसे जमा कर गांव में गरीब बच्चों के लिए एक स्कूल का निर्माण कर ग्रामीण शिक्षा कोआगे बढ़ाने में एक भूमिका निभाई है ,जिसके लिए उन्हें पद्मश्री से सम्मानित किया गया। 

Instagram

Shri Harekala Hajabba 

कर्नाटक की रहने वाली तुलसी गौड़ा एक पर्यावरणविद् हैं जिन्होंने 30,000 से अधिक पौधे लगाए हैं और पिछले छह दशकों से पर्यावरण संरक्षण में जुटी हुई हैं। उनके इस जस्बे के लिए उन्हें पद्म श्री से नवाजा गया। 

Instagram

Smt Tulsi Gowda

102 वर्षीय श्री नंदा किशोर प्रस्टी दशकों से ओडिशा के जाजपुर में बच्चों और वयस्कों को मुफ्त शिक्षा प्रदान की, जिसके लिए राष्ट्रपति कोविंद द्वारा पद्मश्री पुरुस्कार मिला। 

Instagram

Shri Nanda Prusty 

सामाजिक कार्यकर्ता मोहम्मद शरीफ ने धर्म देखा न जाति हर लावारिस शवों का अंतिम संस्कार कर के, पुण्य का काम है। उनके इस काम के लिए राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने पद्म श्री पुरस्कार से सम्मानित किया।

Instagram

 Shri Mohammad Shareef 

'सीड मदर' के नाम से लोकप्रिय, अहमदनगर जिले की आदिवासी श्रीमती राहीबाई सोमा पोपेरे ने कृषि में अहम योगदान दिया। जिसके लिए उन्हें  पद्मश्री से सम्मानित किया गया। 

Instagram

Rahibai Soma Popere

''अधिक खबरें जानने के लिए-नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें''