Career In Merchant Navy – क्यों छाया है मर्चेट नेवी का क्रेज़? जानिए मर्चेट नेवी के बारे में!

पिछले कई वर्षों में मर्चेंट नेवी की ओर छात्रों का रुझान बढ़ता हुआ देखने को मिल रहा है। लेकिन ऐसा क्यों है? मर्चेट नेवी क्या है? यह इतना लोकप्रिय क्यों है?

मर्चेट नेवी क्या है?

मर्चेंट नेवी का नाम इंडियन नेवी से मिलता-जुलता है, इसलिए कुछ लोग इसे नेवी का ही एक हिस्सा समझते हैं। मगर सच्चाई यह है कि इसका नेवी से कोई सम्बन्ध नहीं है। यह नेवी से कई मायनों में अलग है। मर्चेंट नेवी के लोग अपना अधिकांश समय समुद्र में गुजारते हैं। मर्चेंट नेवी की नौकरी एक रोमांचक नौकरी मानी जाती है, जिसमें अच्छे वेतन के साथ देश- विदेश के विभिन्न स्थानों पर जानें के अवसर प्राप्त होते हैं। यानी यहाँ करियर ‘Set’ है। मगर मर्चेट नेवी में राह आसान नहीं है। इनकी ट्रेनिंग कठिन होती है। इस क्षेत्र में सफलता पाने के लिए आपको कर्मठ और जुझारू बनना पड़ेगा।

मर्चेंट नेवी को व्यापारिक जहाजों का बेडा भी कहा जाता है। जिसमें समुद्री यात्री जहाज (Passenger Ships), मालवाहक जहाज (Cargo Ships), तेल टैंकर (Oil Tankers), रेफ्रिजरेटेड शिप (Refrigerated Ship) आदि शामिल होते हैं।

एजुकेशनल क्वालिफिकेश (Education Qualification)

यदि आप मानसिक एवं शारीरिक रूप से तंदुरुस्त हैं और इसके साथ मैरीन इंजीनियरिंग (Marine Engineers) में बीएससी (Bachelor of Science) हैं या अभियांत्रिकी एवं समुद्री इंजीनियरिंग से संबंधित शाखाओं से इंजीनियरिंग (Engineering) की डिग्री रखते हैं, तो मर्चेट नेवी (Merchant Navy) में आपका स्वागत है। Qualification के साथ साथ अगर आपमें Skill भी है तो
आपको यहाँ खूब अवसर मिलेंगे। यदि आप इससे संबंधित कोई कोर्स (Course) करना चाह रहे हैं, तो फिजिक्स, केमिस्ट्री, मैथ्स (PCM) से बारहवीं उत्तीर्ण करना अनिवार्य है।

कहाँ से यह कोर्स कर सकते हैं?

  1. एक्वाटेक इंस्टीट्यूट ऑफ मेरीटाइम स्टडीज, नई दिल्ली
  2. पोर्ट ट्रस्ट स्कूल, चेन्नई
  3. ओशेनिक मैरीटाइम अकादमी
  4. कोचीन पोर्ट ट्रस्ट, कोच्चि
  5. आईआईटी, मुम्बई
  6. इंडियन मैरीन कालेज, हैदराबाद
  7. दि शिपिंग कारपोरेशन ऑफ इंडिया, मुम्बई

सफल होने के लिए स्ट्रेटेजी जरूरी

यदि आपने ठान लिया है कि आपको मर्चेट नेवी में ही कुछ कर गुजरना है तो अभियांत्रिकी एवं समुद्री इंजीनियरिंग (Engineering) से संबंधित शाखाओं से इंजीनियरिंग की डिग्री लेना जरूरी है। विशेषज्ञों की मानें तो बाहरवीं की फिजिक्स, केमिस्ट्री एवं मैथ्स (PCM) की एनसीईआरटी (National Council Of Educational Research And Training) बुक्स का अध्ययन व सिस्टेमेटिक तैयारी ही वह मंत्र है, जो आपको इन कोर्सो में प्रवेश दिलाएगी। आपकी तैयारी धाकड़ होनी चाहिए क्योंकि सवाल आसान नहीं होंगे।

सैलरी (Salary)

विशेषज्ञों के अनुसार, मर्चेट नेवी (Merchant Navy) से जुडे प्रोफेशनल्स की सैलरी (Salary) उनके पद और अनुभव के अनुसार होती है। वैसे इस फील्ड के लोगों की सैलरी 18 हजार रुपए प्रतिमाह से लेकर पद और अनुभव के साथ 8-10 लाख रुपए प्रतिमाह के स्तर तक हो सकती है। यानी अगर आपकी मेहनत रंग लाती है तो आप मालामाल हो सकते हैं।

डेक विभाग क्या है?

इस विभाग में मुख्य रूप से जहाज के कप्तान (Captain), उपकप्तान, सहायक कप्तान (Assistant Captain), चालक तथा पोत मास्टर आदि होते हैं। कप्तान सबका Head होता है। उसका सभी पर नियंत्रण होता है। कप्तान सभी कर्मचारियों से माल का परिवहन जिम्मेदारी के साथ कराता है। इन अफसरों का दायित्व कार्गो प्लानिंग और डेक के कामकाज पर आधारित होता है। इसके अलावा इनका कार्य लाइफ बोट्स और फायर फाइटिंग (Fire Fighting) उपकरणों की देखभाल करना होता है।

इंजन विभाग क्या है?

यह ऐसा डिपार्टमेंट है, जहां कार्य करने वाले कर्मचारियों का दायित्व जहाज पर नियंत्रण तथा उसका हर अहम उपकरण का Maintenance करना होता है। इस डिपार्टमेंट में प्रमुख रूप से शिप इंजीनियर (Ship Engineers), इलेक्टिकल ऑफिसर, रेडियो ऑफिसर (Radio Officer), नॉटिकल सर्वेयर (Nautical Surveyor) आदि आते हैं।

सेवा विभाग क्या है?

जहाज की देखरेख से लेकर उसमें कार्य करने वाले अफसरों, कर्मचारियों के रहने, भोजन एवं वस्त्र आदि की व्यवस्था करना इस विभाग के लोगों का दायित्व होता है। इयमें मुख्य स्टीवर्ड पूरे कामकाज की देखभाल करता है।

4 दिसंबर को मनाया जाता है नौसेना दिवस

हर साल 4 दिसंबर को नौसेना दिवस मनाया जाता है।
भारतीय नौसेना का लोहा पूरी दुनिया मानती है। इंडियन नेवी ने अपने वीरता, बल और पुरुषार्थ से कई इतिहास
के पन्नों में आपना नाम दर्ज कराया है। अपने लक्ष्य को पूरा करने के लिए भारतीय नौसेना भरपूर ताकत झोंक देती है और अंततः सफल हो कर ही दम लेती है।

क्यों मनाया जाता है भारतीय नौसेना दिवस?

4 दिसंबर 1971 के दिन ही भारतीय नौसेना (Indian Navy Day 2021) के वीर जवानों ने पाकिस्तान की पीएनएस खैबर के साथ कई बड़े लड़ाकू वॉर शिप्स को समुद्र में पानी पिलाया था। 1971 युद्ध में भारत ने पाकिस्तान के दांत खट्टे कर दिये थे। इसी दिन को अमर बनाने के लिए भारतीय नौसेना 4 दिसंबर के दिन इंडियन नेवी डे सेलिब्रेट करती है।

Leave a Comment