Virat Kohli : विराट के दिन लद गए अब फैन्स करे सन्यास का इंतजार

बीते कुछ महीनों में भारतीय क्रिकेट ने बहुत कुछ देखा । किसी ने बुरा वक्त देखा तो किसी ने अच्छा वक्त । सबकी बात करेंगे मगर कल जो हुआ उसने भारतीय क्रिकेट में हलचल मचा दी । विराट कोहली की निराशा , बोर्ड और चयनकर्ताओं के कड़े फैसले साथ क्रिकेट को नया कप्तान देना , साउथ अफ्रीका दौरे के लिए टीम का चयन जो समझ से परे है । अब लौटते है असल बात पर । कल चेतन शर्मा की अगुवाई में टीम इंडिया का साउथ अफ्रीका दौरे के किए चयन हुआ जिसने टेस्ट की कमान विराट कोहली को दी गई । कुछ खिलाड़ी चोट के चलते बाहर गए तो कुछ अंदर आए । यहां तक तो सब ठीक था मगर बीसीसीआई ने जैसे ही यह बताया कि साउथ अफ्रीका में वनडे सीरीज के लिए रोहित शर्मा को कप्तान बनाया गया है एक क्षण के लिए किसी को कुछ समझ नहीं आया । आखिर ये हुआ क्यों । विराट कोहली भी इसके लिए तैयार नहीं हुए होंगे । फिर भी बात साफ है कि बोर्ड और चयनकर्ता मन बना चुके है कि हम आगामी सीरीज और आईसीसी टूर्नामेंट के लिए रोहित शर्मा को बतौर कप्तान देख रहे है और विराट कोहली अब से सिर्फ टेस्ट टीम की कमान संभालेंगे । हालांकि चयन समिति ने वनडे सीरीज के लिए टीम नहीं सर्जनिक की । हो सकता है टीम सेलेक्ट हो गई हो और उसकी घोषणा करना उचित समय ना समझा हो ।

रोहित शर्मा के लिए चुनौती बहुत है

35 वर्षीय रोहित शर्मा को सफेद बॉल कि कप्तानी मिल गई है मगर इसको लेकर भी अलग अलग प्रतिक्रियाएं सामने आ रही है । कुछ लोग सही बता रहे है तो कुछ लोग यह भी कह रहे है कि 35 वर्षीय रोहित कब तक कप्तानी करेंगे और उनमें कितने साल की क्रिकेट बाकी है अमूमन यह देखा गया है कि एक खिलाड़ी 40 की उम्र तक थकान महसूस करने लगता है । खैर बोर्ड और चयनकर्ता ने आगामी टूर्नामेंट को लेकर यह कदम उठाया है क्योंकि विराट कोहली की कप्तानी में भारत एक भी आईसीसी टूर्नामेंट नहीं जीत पाया । जिसके बाद कड़ा कदम उठाते हुए यह फैसला लिया गया । अगले साल ऑस्ट्रेलिया में टी 20 विश्व कप होना है इसके बाद 2023 में आईसीसी वनडे विश्व कप होगा जिसकी मेजबानी खुद भारत करेगा । ऐसे में रोहित शर्मा पर बड़ी जिम्मेदारी होगी कि वह आईसीसी ट्रॉफी जीता सके । क्योंकि साल 2013 से भारत कोई आईसीसी ट्रॉफी नहीं जीता है 2013 में धोनी की कप्तानी में भारत ने इंग्लैंड को हराकर चैंपियन ट्रॉफी पर कब्जा किया था । इसके बाद आईसीसी टूर्नामेंट के लिहाज से विराट कोहली की किस्मत खराब रही है सेमीफाइनल और फाइनल तक पहुंचकर भी भारत ट्रॉफी नहीं जीत सका । इसी साल खत्म हुए आईसीसी टी 20 विश्व कप में भारत का जो हाल हुआ वह शर्मनाक था । और टूर्नामेंट के बीच में ही एक फॉर्मेट की कप्तानी छोड़ने का मन बना लिया था तब आधिकारिक तौर पर रोहित शर्मा टी 20 के कप्तान बन गए थे ।

WTC फाइनल हारने के बाद तय हो गया था कोहली का भविष्य

युवराज सिंह ने एक बार एक वीडियो को शेयर करते हुए कहा था कि क्रिकेट मे जब तक आपका बल्ला चलता है तब तक आपके ठाठ है बल्ला खामोश हुआ तो खतरा पैदा हो जाता है । आखिर वही हुआ विराट कोहली के साथ भी । विराट कोहली का बल्ला इस कदर खामोश हुआ की उनके करियर पर ग्रहण लगा दिया । मानो विराट का बल्ला भूल गया हो की शतक कैसे लगाया जाता है । 13 सितम्बर 2019 को उनके बल्ले से आखिरी बार शतक निकला था टेस्ट में देखें अगर साल 2019 से तो विराट ने 21 पारियां खेली है जिसमे क़रीब 550 रन बनाए है। ऐसा नहीं है कि विराट का बल्ला नहीं चला तो भारत जीता नहीं । भारत विश्व टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल तक पहुंचा । मगर जब फाइनल में न्यूजीलैंड के हाथों हार मिली तो विराट के लिए खतरे की घंटी बजनी शुरू हो गई थी । विराट की कप्तानी पर सवाल उठने लगे थे । इन सबको जोड़कर यही कहा जा रहा था कि विराट पर कप्तानी का भार ज्यादा है वो सम्भाल नहीं पा रहे है उनके बल्ले से रन भी नहीं निकल रहे है कुल मिलाकर विराट दबाव में है । मगर इस बीच आईपीएल हुआ वो खेले भी । साथ ही टी 20 विश्व कप में बोले थे कि रोहित को टी 20 की कप्तानी दे देनी चाहिए और वनडे और टेस्ट के कप्तान के तौर पर आगे जिम्मेदारी निभाऊंगा । मगर कल जो हुआ उसकी कल्पना तक नहीं की होगी विराट ने । मतलब साफ है कि विराट कोहली बड़े खिलाड़ी जरूर है लेकिन उनसे व्हाइट बॉल की कप्तानी छीनी गई है उन्होंने दी नहीं है अगर आप पूर्व के कप्तानी को देखे तो कुंबले , धोनी , राहुल द्रविड़ सचिन ने कप्तानी छोड़ी है और विराट से छीनी गई है । जब दुबई में टी 20 विश्व कप में हार मिली तो तय हो गया कि विराट से वनडे की कप्तानी भी ले ली जाए ।

Rohit sharma and rahul dravid image

राहुल और रोहित साथ ही कोहली का सन्यास

कुछ लोगों ने यह भी कहना शुरू कर दिया कि विराट कोहली और रवि शास्त्री में जो बनती थी वह राहुल द्रविड़ और कोहली में नहीं बनेगी । इसलिए अब देखना यह भी होगा की नया कप्तान और नया कोच भारतीय टीम को कहां तक ले जाते है कितनी ऊंचाइयों तक ले जाते है । अभी राहुल द्रविड़ और रोहित शर्मा ने एक सीरीज मे साथ दिखे वह भी न्यूजीलैंड जो भारत ने जीती थी । भारत के सामने दो बड़े टूर्नामेंट है इस लिहाज से नए कप्तान और नए कोच के लिए यह बिल्कुल आसान नहीं होगा । विराट कोहली और रवि शास्त्री की जोड़ी थी तो भारत ने काफी उपलब्धियां हासिल की । किस्मत ने आईसीसी टूर्नामेंट मे साथ नहीं दिया दोनों यह अलग बात है । बात यह भी है कि राहुल द्रविड़ को पसंदीदा चेहरा नहीं बल्कि अच्छा खेलने वाला खिलाड़ी चाहिए जो फॉर्म में भी हो । मन में एक बात यह भी घर कर रही है कि हो सकता है कुछ दिनों में विराट कोहली सफेद बॉल से सन्यास ले लें और सिर्फ टेस्ट क्रिकेट खेलते नजर आए । मुझे नहीं लगता विराट कोहली रोहित शर्मा की कप्तानी में खेलेंगे । तो फिर इंतजार कीजिए ।

Leave a Comment