UP Election 2022 : बीजेपी के हिंदुत्व पिटारे में क्या क्या है

भारतीय जनता पार्टी का मकसद बिल्कुल साफ है और वह खुलकर दम भरती है कि वह हिंदुत्व की पार्टी है लेकिन लेकर सभी जाति और धर्म को चलती है 80 दशक में 2 सीटें पाने वाली बीजेपी आज सत्ता पर काबिज है वो भी भारी भरकम सीटों के साथ केंद्र की गद्दी पर बैठी है और क्यों न हो उसने जब साल 2014 में चुनाव की हुंकार भरी थी तो उसके पास एजेंडा सिर्फ हिंदुत्व का था और पूरे देश में ऐसी आंधी आई की विपक्ष उड़ कर कहां चला गया पता तक न चला ।

राजनीति विश्लेषकों ने दांतो तले उंगली दबा ली । देश की सबसे पहली और बड़ी पार्टी कांग्रेस का ऐसा हाल होगा सोचा भी नहीं था । खैर, इस तरह की बात हम इसलिए कर रहे है क्योंकि 2022 में देश के पांच राज्यों में चुनाव होने वाले है जिसमे उत्तर प्रदेश बीजेपी के लिए सबसे अहम है राजनीति में कहते है की केंद्र का रास्ता उत्तर प्रदेश से निकलता है क्योंकि सबसे बड़ी आबादी है और सबसे ज्यादा विधानसभा सीटें भी । और बीजेपी इसे किसी भी हाल में हारना नहीं चाहती । तभी तो उसने फिर से हिंदुत्व का ट्रंप कार्ड खेल दिया है जो वह पहले भी खेलती रही है और उसी हिंदुत्व ने उसका बेड़ापर भी किया है । हम आज यह जानेंगे की आखिर बीजेपी के हिंदुत्व वाले पिटारे मे क्या क्या छिपा है जिसकी बैसाखी पकड़कर वह सत्ता हासिल करना चाहती है ।

मंदिर – मस्जिद की राजनीति रास आती है

यह बात सच है कि बीजेपी विकास के साथ चलने वाली पार्टी भी है मसलन अगर वह हिंदुत्व पर जोर देती है तो विकास के मुद्दों पर भी कमर कसती है बीजेपी को मंदिर मस्जिद की राजनीति खूब रास आती है साल 2014 में जब उसने चुनावी रैलियां की और अपना मेनिफेस्टो बताया कि वह राम मंदिर , कश्मीर से आर्टिकल 370, रोहनिया शरणार्थी, रोजगार, किसानो की आय दुगनी ऐसे तमाम मुद्दे के साथ उसने केंद्र की सत्ता में कदम रखा है और उसने पूरे भी लिए ।

राम मंदिर

आज अयोध्या में राम मंदिर बन रहा है जो यूपी चुनाव में बीजेपी के तुरुप का इक्का साबित होगा । क्योंकि बीजेपी के नेता रैलियों में हुंकार भर चुके है कि यूपी की पूर्व सरकारों ने मंदिर से ज्यादा मस्जिद पर तरजीह दी । राम मंदिर के कार सेवकों पर गोली चलवाने वालों को यूपी की जनता माफ नहीं करेगी । जब यूपी के मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव थे तब उन्होंने कार सेवकों पर गोलियां चलवाई थी जिसमे काफी संख्या में जानें गई थी । मतलब साफ है कि बीजेपी राम मंदिर को चुनावी मुद्दा बनाने से एक बार फिर पीछे नहीं हटेगी ।

मथुरा और काशी अभी बाकी है (BJP Stand on Ram Mandir)

आप सोच भी नहीं सकते बीजेपी के हिंदुत्व वाले पिटारे में बहुत कुछ है वह एक एक करके उस पिटारे से तरकस तीर निकाल रही है हालांकि मथुरा और काशी का मुद्दा बहुत पहले का है मगर यूपी चुनाव आते है मथुरा और काशी जोर पकड़ने लगे है उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने बुधवार को एक ट्वीट किया और कहा मथुरा की तैयारी राजनीति मुद्दा नहीं बल्कि आस्था का विषय है एक भक्त होने के नाते हमने सिर्फ भाव प्रकट किए । कौशांबी में बूथ कार्यकर्ताओं के साथ केशव प्रसाद मौर्य ने जय श्री कृष्ण के जयकारे लगाए । उनका कहना यह भी था कि जैसे अयोध्या में रामलला का भव्य मंदिर बन रहा है काशी मे बाबा विश्वनाथ का कोरिडोर बन रहा है वैसे ही अब मथुरा में श्री कृष्ण जन्मभूमि पर भव्य मंदिर की प्रतीक्षा है मगर भाजपा के लिए मंदिर चुनावी एजेंडा नहीं है । मगर विपक्ष है कि बीजेपी को घेरने लगा है और धर्म की राजनीति बता रहा है । आप कुछ भी कह लीजिए चाहे समझ कीजिए सबकी अपनी अपनी राजनीति है |

अयोध्या के राम मंदिर, श्री राम मंदिर निर्माण अयोध्या, अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण कब होगा, राम मंदिर वीडियो, राम मंदिर फोटो, राम मंदिर की ताजा खबर, राम मंदिर निर्माण कार्य, राम मंदिर का फैसला, up election 2022 opinion poll wiki, upcoming elections in india 2022, up election 2022 result date, up election 2022 schedule, up election 2022 predictions, punjab election 2022, up election 2017, uttarakhand election 2022 टॉपिक्स की अधिक खबरों की जानकारी पाने के लिए BE JAGRUK को फॉलो करें।

Leave a Comment