Veer Savarkar Jayanti : पढ़िये महान क्रांतिकारी वीर सावरकर के चुनिंदा विचार

1. हिंदू धर्म कोई ताड़पत्र पर लिखित पोथी नहीं जो ताड़पत्र के चटकते ही चूर चूर हो जायेगा, आज उत्पन्न होकर कल नष्ट हो जायेगा। यह कोई गोलमेज परिषद का प्रस्ताव भी नहीं, यह तो एक महान जाति का जीवन है; यह एक शब्द-भर नहीं, अपितु सम्पूर्ण इतिहास है। अधिक नहीं तो चालीस सहस्त्राब्दियों का इतिहास इसमें भरा हुआ है।

2. मनुष्य की संपूर्ण शक्ति का मूल उसके खुद की अनुभूति में ही विद्यमान है।

3. महान लक्ष्य के लिए किया गया कोई भी बलिदान व्यर्थ नहीं जाता है।

4. हिंदू समाज के, धर्म के, राष्ट्र के करोड़ों हिंदू बंधु इससे अभिशप्त हैं। जब तक हम ऐसे बनाए हुए हैं, तब तक हमारे शत्रु हमें परस्पर लड़वाकर, विभाजित करके सफल होते रहेंगे। इस घातक बुराई को हमें त्यागना ही होगा।

5. अपने देश की, राष्ट्र की, समाज की स्वतंत्रता- हेतु प्रभु से की गई मूक प्रार्थना भी सबसे बड़ी अहिंसा का द्योतक है।

6. देश-हित के लिए अन्य त्यागों के साथ जन-प्रियता का त्याग करना सबसे बड़ा और ऊँचा आदर्श है, क्योंकि – ‘वर जनहित ध्येयं केवल न जनस्तुति’ शास्त्रों में उपयुक्त ही कहा गया है।

7. उन्हें शिवाजी को मनाने का अधिकार है, जो शिवाजी की तरह अपनी मातृभूमि को आजाद कराने के लिए लड़ने के लिए तैयार हैं।

8. वर्तमान परिस्थिति पर इसका क्या प्रभाव पड़ेगा, इस तथ्य की चिंता किये बिना ही इतिहासलेखक को इतिहास लिखना चाहिए और समय की जानकारी को विशुद्ध और सत्य रूप में ही प्रस्तुत करना चाहिए।

Frequently Asked Questions (FAQ)

प्रश्न (Question) 1 : सावरकर का जन्म कब हुआ था?

उत्तर (Answer) : 28 मई 1883

प्रश्न (Question) 2 : सावरकर का पूरा नाम क्या था?

उत्तर (Answer) : विनायक दामोदर सावरकर

प्रश्न (Question) 3 : सावरकर किस विचारधारा में यकीन करते थे?

उत्तर (Answer) : हिंदुत्व

प्रश्न (Question) 4 :

उत्तर (Answer) :

प्रश्न (Question) 5 :

उत्तर (Answer) :

Leave a Comment