North Korea Life : जिंदगी और मौत के बीच खड़ा उत्तर कोरिया

उत्तर कोरिया नाम सुनते ही सबसे पहले आपके दिमाग में साशक किम जोंग उन आता है सिर्फ यही नहीं किम जोंग उन की सनक उसके कारनामे उसकी करूतुतें , ज़िद्दीपन , अड़ियल रवैए, और गीदड़ भभकी इन सबके लिए दुनियाभर में मशहूर हो चुका किम जोंग उन वाला उत्तर कोरिया आज जिंदगी और मौत के बीच में खड़ा है जिसके चेहरे पर हमेशा खुशी रहती थी किसी की मौत पर भी वह मुस्कुराता था वही किम जोंग उन जिसने दुनिया के सबसे ताकतवर मुल्क अमेरिका को लोहे के चने चबवा दिए । लेकिन उसके आगे झुका तक नहीं आज वही किम जोंग उन देश को संबोधित करके कह रहा है और दुनिया को बता रहा है की देश की अर्थव्यवस्था पूरी तरह से चरमरा गई है देश में भुखमरी जैसे हालात पैदा हो गए ।

बेरोजगारी चरम पर है लब्बोलुआब यही है कि आज उत्तर कोरिया दाने दाने को मोहताज है और पूरा उत्तर कोरिया जिंदगी और मौत के तख्ते पर खड़ा है। लेकिन किम जोंग उन ने अपने देशवासियों को भरोसा दिलाया है कि बिगड़ती हुई अर्थव्यवस्था को सुधारने का काम किया जाएगा। जिससे देश फिर से अपनी राह पर खड़ा हो जाए। आखिर ऐसा क्या हुआ पिछले कुछ समय से उत्तर कोरिया में जिसकी वजह से ऐसे हालत पैदा हो गए है आइए समझते है ।

पहले से नहीं किया हालातों पर गौर

बड़े बड़े शौक रखने वाला किम जोंग उन अय्याशी के अंधेपन में इतना मगरुर हो जाएगा की उसको देश के मुश्किल हालातो से बेखबर रहना पड़ेगा । ऐसा नहीं है कि उसने लगातार देश के बदहाल आर्थिक स्थिति और खाने के समान की कमी की बात पर जोर नहीं दिया । किम जोंग उन ने साल के आखिर मे वर्कर्स की मीटिंग में इसी बात की चर्चा की । किम जोंग उन ने साफ किया कि आने वाला नया साल 2022 जिंदगी और मौत जैसा बड़ा संकट लेकर आ सकता है अगर समय रहते देश की अर्थव्यवस्था को सुधारा नहीं गया तो । आज उत्तर कोरिया जिस हालातों पर पहुंच गया है ऐसा ही मंजर इससे पहले साल 1990 में उत्तर कोरिया ने देखा था। यह वक्त कठिन है लेकिन इससे उबरना ही विकल्प है ।

नया उत्तर कोरिया दिखेगा

उत्तर कोरिया में बतौर शासनाध्यक्ष किम जोंग उन को 10 साल पूरे हो गए है । और इसी सिलसिले में बीते सोमवार को शुरू हुई बैठक शुक्रवार को समाप्त हुई । जिसमें किम जोंग उन ने अपनी उपलब्धियां को गिनाते हुए देश के हालातों से भी देशवासियों को रूबरू कराया । आपको बता दें कि चीन से निकले अदृश्य वायरस मतलब करोना वायरस के प्रकोप को देखते हुए उत्तर कोरिया ने 2020 को चीन से सटी अपनी सीमा को बन्द कर दिया था । आंकड़े जरूर सामने नहीं है कि करोना वायरस से उत्तर कोरिया को कितना नुकसान हुआ है कितना नहीं । लेकिन उसकी अर्थव्यवस्था बता रही है कि उत्तर कोरिया पर भी करोना वायरस की मार जमकर पड़ी है । किम जोंग उन ने साफ किया है कि खाद्य संकट को दूर किया जाएगा और हेल्थ सेक्टर पर भी तवज्जो दी जाएगी । देश को मुश्किल हालात से निकलकर उत्तर कोरिया को फिर से खड़ा किया जाएगा।

Leave a Comment