साइबर ठग के जाल में फंसे तो गए काम से आप

आज से एक दशक पहले जो काम हमें लक्ष्य तक जाने के लिए या फिर किसी छोटे से काम के लिए चलकर जाना पड़ता था आज वही काम घर बैठे किसी भी समय करने में सक्षम है ये सब मुमकिन हुआ है आधुनिकता की वजह से । लेकिन इसकी एक खासियत भी है जो चीज हमें सहूलियत देती है वह खतरे का कारण भी बनती है । आज हाथों मे मोबाइल और लैपटॉप है जो हर काम को आसान बना रहे है लेकिन आपके उपकरणों में आपके अलावा किसी और कि भी नजर बनी हुई है वो है साइबर ठग ।  आम लोग से ज्यादा बड़े बड़े लोग और कम्पनियां साइबर ठग की गिरफ्त में आ चुकी है । 

साइबर ठगों का नया पैंतरा 

एक  एक्स्पर्ट की माने तो साइबर ठगी कोई नया नहीं है इससे पहले यही अपराधी इंटरनेशनल विषयों को लेते थे अब उनका तरीका समय और आधुनिकता की तकनीक के साथ बदला है मान लीजिए कोई फ्री चीज किसी योजना के तहत दी जानी है तो साइबर ठग तुरन्त एक्टिव हो जाते है और फ्री मैसेज भेजकर , मेल भेजकर या फिर मिस्ड कॉल के जरिए उस काम पर ग्रहण लगा सकते है । 

सोशल मीडिया और गेमिंग भी ठगी का शिकार 

आज सोशल मीडिया के जरिए लोग बड़ी आसानी से अपनी बात रखने में सक्षम है फेसबुक, इंस्टाग्राम, ट्विटर, वॉट्स ऐप यहां तक कि गेमिंग एप भी साइबर ठग की गिरफ्त से दूर नहीं है । सोशल मीडिया के जरिए होने वाली फिशिंग आम नहीं है हूबहू आईडी बनाकर गलत संदेश और अश्लील मैसेज भेजकर उससे फिरौती की मांग करते है । यहां तक कि आज कल सरकारी वेबसाइट भी साइबर ठग से अछूती नहीं रहीं । कई विदेशी मुल्कों में तो रक्षा विभाग की आधिकारिक वेबसाइट हैक हो गई है उनसे डेटा लीक हुआ है मतलब साफ है कि साइबर ठगों की निगाहें चारों तरफ गई इसलिए उनसे बचकर रहें । 

खुद को कैसे बचाएं 

* अपने अकाउंट पर नियमित तौर पर पासवर्ड बदलते रहे
* स्ट्रॉन्ग पासवर्ड लगाए
* किसी भी मेल, कॉल और मैसेज का जवाब पुष्टि करके दे 
* किसी वेबसाइट पर विजिट कर रहे हो तो ऑफिशियल वेबसाइट पर जाएं क्योंकि डुप्लीकेट वेबसाइट भी बहुत है 
* किसी भी अनावश्यक लिंक पर क्लिक न करें

Leave a Comment