ELECTRIC CAR IN INDIA 2022: भारत में इलेक्ट्रिक कार का बढ रहा चलन , पूरी जानकारी

 

दोस्तों एक समय था जब लोगों के पास आने जाने का सिर्फ एक ही सहारा था वो भी साईकिल थी । मगर ऐसा नहीं है कि किसी के पास कार नहीं होती थी मगर आप जिस जगह रहते थे वहां कुछ लोगों के पास होती थी । मतलब अमीर लोगो के पास कार हुआ करती थी  । समय बदला तो कार आज लगभग हर दूसरे घर में उपलब्ध है  मगर जो सिर्फ पेट्रोल , डीजल और सीएंजी से चलती है । आज तकनीक इतनी बदल गई है और इतनी आगे पहुंच गई है कि इलेक्ट्रिक कार ने जोरों से लोगों के बीच दस्तक दे रही है । और वो भी आपके बजट के अनुसार दस लाख तक की कीमत की कार । क्या कुछ सालों पहले किसी ने सोचा था । शायद नहीं । लेकिन आज बहुत सारी कम्पनियां भविष्य को देखते हुए इलेक्ट्रिक कारे पर काम कर रही है यह बात भी सही है कि बाजार अभी इलेक्ट्रिक करो को लेकर ठंडा है मगर हर जगह यही हाल नहीं है । तो फिर आइए कुछ और जानकारी साझा करते है आपसे कम्पनियों से लेकर दामों तक और क्या क्या सहूलियत है ।

कैसा है कम्पनी का  ग्राहकों के बीच तालमेल

पिछले साल  2021 फरवरी में दिल्ली में एक सर्वे हुआ था  जिसमे दिल्ली एक्सपो ऑटो मे कई ऐसी करें पेश की की गई । जिसमे लोगों के इलेक्ट्रिक करों को लेकर जो सपना है वह साकार होता नजर आ रहा है । लोगों मे उत्सुकता कम ही दिखी मगर जीतने को समझ आया वो बहुत खुश थे । चलिए अब बताते है उन कंपनियों के बारे में जिन्होंने इलेक्ट्रिक कारें  पेश की  थी । महिंद्रा एंड महिंद्रा ने अपनी मिनी एसयूवी KUV 100 का एक इलेक्ट्रिक वर्जन लांच किया । जिसकी कीमत ऐसी रखी गई जिससे ग्राहम और कम्पनी के बीच तालमेल बना रहे । 8 लाख  से लेकर 11 लाख तक रखी गई । अगर डॉलर की बात करे तो 11 हजार 600 डॉलर रखी गई । अगर आप निजी करों की तुलना करे तो आप देखने इलेक्ट्रिक कार जो महिंद्रा ने लॉन्च किया है वह बहुत सस्ती है जो ग्राहक के बजट के अंदर  आती है । इसके बाद टाटा कम्पनी ने भी अपनी इलेक्ट्रिक कार लॉन्च की । नेक्सान इवी कार , इसकी कीमत महिंद्रा से ज्यादा है 14 लाख रुपए रखी गई है । मसलन 20 हजार डॉलर । आपको पता है टाटा कम्पनी जो जगुआर लैंड रोवर बैंड की भी मालकिन है यह अपनी कारों को लेकर बहुत उत्साहित है सिर्फ बाज़ार गर्म होने की देरी कर रही है । टाटा कम्पनी तो इलेक्ट्रिक के मामले में आगे निकली इसने एक इलेक्ट्रिक हैच बैक कार और इलेक्ट्रिक और ट्रक कि भी नुमाइश की । टाटा का इरादा साफ है ।

विदेशी कम्पनी भी पीछे नहीं रही

भारत की महिंद्रा और टाटा जैसी बड़ी कम्पनियों ने इलेक्ट्रिक कारें और बस , ट्रक की लॉन्च की तो  भला विदेशी कम्पनी कहां पीछे रहने वाली थी । क्योंकि विदेशो में भी इलेक्ट्रिक कारें का फितूर जमकर दिख रहा है । इसलिए कोरियाई ऑटोमोबाइल कम्पनी हंडुई ने भी इलेक्ट्रिक कारें जमीन पर उतार दी । इसके साथ ही चीन की मालिकाना हक वाली ब्रिटिश कम्पनी एमजी मोटर्स ने भी कुछ समय पहले अपनी लॉन्च की है । जिनकी कीमत भारत की करों के दृष्टिकोण से बहुत ज्यादा थी । जिसकी कीमत करीब 25 लाख रूपये बताई जा रही है । इलेक्ट्रिक कारें ही भी मोटरसाईकल भी लॉन्च हुई है जिनकी कीमत अधिक है । लेकिन एक बात जो समझने वाली है अभी ये इलेक्ट्रिक गाड़ियों के खिलाड़ी कोई खास कामयाबी हासिल नहीं कर पाए है अभी ग्राहक बहुत दूर है । इलेक्ट्रिक कारें जब तक ग्राहक के बजट के अंदर नहीं आयेगी । इसका बाजार नरम रहेगा ।

इलेक्ट्रिक कारों पर भारत का बाजार कितना गर्म है

एक सवाल जो अधिक परेशान कर रहा था कि क्या इलेक्ट्रिक करों को लेकर भारत का बाज़ार गर्म है इलेक्ट्रिक कार का भविष्य भारत में कैसा है।  कुछ  महीने  पहले ओला कम्पनी ने अपने इलेक्ट्रिक स्कूटर को बाज़ार में उतारा और 600 करोड़ के कीमत की स्कूटर बेच डाली । वो इसलिए कि स्कूटर की कीमत 1 लाख 25 हजार के आस पास थी । मगर कार को लेने के लिए अभी ग्राहक रुचि नहीं दिखता है । कुछ  जानकार मानते है कि भारत अभी इलेक्ट्रिक करों से दूर है ना के बराबर ग्राहक इसमें रुचि दिखा रहे है । लोग पहले दी जाने वाली सुविधाएं समझ लेना चाहते है इसके बाद ही वह रुचि दिखाएंगे । इसमें लगभग दो सालो का वक्त लग सकता है । कीमतें इतनी ज्यादा है कि लोग रुचि नहीं दिखा रहे है । भारत के लीग क़रीब इलेक्ट्रिक कार खरीदने के लिए 15 लाख से ज्यादा नहीं खर्च करना चाहते ।  एक आंकड़ा यह भी कह रहा है कि भारत आने वाले समय में सबसे बड़ा बाज़ार बनेगा । विदेशी कम्पनी भारत में ही रहकर इलेक्ट्रिक कार का निर्माण करेंगी । फिर जाकर भारत हब बन सकेगा।

 

 

 

Leave a Comment