Digital Seva Portal 2022 : क्या है डिजिटल सेवा? सरकार ने यह क्यों बनाया है?

डिजिटल सेवा का उद्देश्य है सरकारी योजनाओं का डिजिटलीकरण करना है ताकि नागरिकों के लिए सरकारी प्रक्रिया को सरल और आसान बनाया जा सके। वो यह जान सकें कि सरकार उनके लिए क्या योजनाएं चला रही हैं और वो उन योजनाओं का फायदा कैसे ले सकते हैं।

डिजिटल सेवा के बारे में ये सारी बातें भी जान लीजिये –

• डिजिटल सेवा से जनता को पारदर्शी तरीके से सरकार के सारी लोकहितकारी योजनाओं के बारे में जानकारी प्रदान होगी। पारदर्शिता के कारण भ्रष्टाचार पर लगाम लगेगा।  

• डिजिटल सेवा का लक्ष्य है ग्रामीण नागरिकों को G to C (Goverment to Citizen) और B to C (Business to Citizen) सेवा की जानकारी देना।

• डिजिटल सेवा ज़ोर देती है कि समाज के ग्रामीण सशक्तीकरण के लिए और सामूहिक कार्रवाई को बढ़ावा देने के लिए और सामुदायिक भागीदारी को सक्षम बनाने के लिए।

• डिजिटल सेवा से डिजिटल इंडिया के मंतव्य को बढ़ावा मिलेगा।

डिजिटल इंडिया के अंतर्गत कौन कौन से काम डिजिटली करवाये जा सकते हैं?

प्रमाण पत्र, लाइसेंस, आधार कार्ड, पास पोर्ट, पेंशन सेवाएं बैंकिंग जैसी कई सरकारी प्रक्रियाएं अब डिजिटली ही हो जायेंगी।

ये सारी सेवाएं भी डिजिटल मिल जायेंगी –

  1. शैक्षणिक सेवाएं
  2. स्वास्थ्य सेवाएं
  3. इनकम टैक्स फाइलिंग
  4. कृषि सम्बन्धी सेवाएं

डिजिटल सेवा सेंटर खोलने के लिए योग्यता क्या होनी चाहिए?

• आवेदक को अठारह वर्ष से अधिक आयु का होना होगा।

• आवेदक 10 वीं पास होना चाहिए।

• आवेदक को स्थानीय बोली और अंग्रेज़ी भाषा की ठीक ठाक समझ हो।

• आवेदक को बुनियादी कंप्यूटर ज्ञान भी हो जरूरी है।

डिजिटल सेवा केंद्र रजिस्ट्रेशन के लिए जरूरी दस्तावेज़ कौन कौन से हैं?

  1. पहचान प्रमाण: आवेदक मतदाता पहचान पत्र की प्रति।
  2. पता प्रमाण: आवेदक आधार कार्ड की प्रति।
  3. बैंक विवरण: आवेदक बैंक पासबुक या रद्द चेक
  4. पैन कार्ड: आवेदक के पैन कार्ड की कॉपी
  5. रिज्यूमें: आवेदक के रिज्यूम की कॉपी

डिजिटल सेवा के बारे में अगर आप और कुछ जानने के लिए इच्छुक हैं तो आप इन दो नंबर्स पर फोन घूमा सकते हैं 1800-3000-3465, 01124301349 या फिर अपने सवालों को ईमेल कर सकते हैं – Helpdesk@csc.gov.in 

Leave a Comment