NRLM : आजीविका मिशन से ग्रामीण महिलाओं का संवर रहा भविष्य | National Rural Livelihood Mission

सरकार हर सम्भव प्रयास करती है कि ग्रामीण क्षेत्रों में विभिन्न प्रकार की योजनाओं को अमलीजामा पहनाया जाए जिससे वहां का स्तर सुधरे । और सरकार इसी बात को मद्देनजर रखते हुए राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन लेकर आई । जिससे गांव की महिलाएं भी अपनी आजीविका को आगे बढ़ाए और अपने भविष्य को सुरक्षित कर सकें ।

दरअसल गांव में महिलाएं 10 से 20 का समूह बनाती है जो राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के अंतर्गत आता है देश में तेजी से बढ़ती जनसंख्या को देखते हुए सरकार के लिए सबको रोजगार देना मुश्किल साबित हो रहा है इसलिए ऐसी योजना लेकर आती है जिससे युवा, पुरुष और महिलाएं खुद अपनी आजीविका का प्रबन्ध कर सके । आज हम आपको इस लेख के माध्यम से यह बताएंगे की आखिर राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन क्या है सरकार का इसके प्रति क्या उद्देश्य है इसके लाभ कैसे ले सकते है आइए जानते हैं

राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन क्या है (nrlm full form)

सरकार ने इसकी शुरुआत साल 2011 में की थी । थोड़ा और पीछे जाए तो साल 1999 में भारत सरकार ने ग्रामीण विकास मंत्रालय द्वारा स्वर्ण जयंती पर ग्राम स्वरोजगार योजना चलाई थी । जिसका पुर्नगठन 2011 मे किया गया । सरकार इसके जरिए ग्रामीण क्षेत्रों को आत्मनिर्भर बनाना , गांव से शहर के लिए जो लोग रोजगार के लिए पलायन करते है उन्हे रोकना , ग्रामीण महिलाओं को रोजगार , साथ ही स्थानीय स्तर पर रोजगार की सुविधा देना ।

nrlm full form – National Rural Livelihood Mission

यह सभी बातें इस योजना का हिस्सा थी । जिन लोगों के पास बीपीएल राशन कार्ड है ऐसे परिवारों को इस योजना के तहत उनको गरीबी रेखा से ऊपर लाना सरकार का मकसद था । आपको बता दें कि सरकार ने मौजूदा समय मे इसका नाम बदलकर दीन दयाल अंत्योदय योजना राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन रखा गया है । विश्व बैंक द्वारा भी वित्त सहायता दी जाती है ।

कैसे काम करती है NRLM योजना | nrlm bank loan

इस योजना में स्वयं सहायता समूह और संघीय सहायता के जरिए अब तक देशभर में 600 जिले , 6769 ब्लॉक , 2.5 लाख गांव पंचायत और साथ ने करीब 6 लाख गांव के सात करोड़ बीपीएल परिवारों को इसके दायरे में लाने की योजना है जिससे इन्हे गरीबी रेखा से बाहर निकाला जाए ।

सरकार चाहती है कि इसके लिए 8-10 वर्ष तक आजीविका चलाने के लिए आवश्यक सहयोग देकर इसे एक सम्पूर्ण कार्यक्रम के तहत पूरा किया जाए । स्किल डेवलपमेंट, लाभार्थी को सक्षम बनाना , और स्थानीय स्तर पर रोजगार उपलब्ध कराना ही इस मिशन का उद्देश्य है स्वयं सहायता समूह बनाकर महिलाओ ने महिला सशक्तिकरण का परिचय दिया है साथ ही आत्मनिर्भर बनने की ओर भी अग्रसर हुई है

राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के लाभ

  • इस योजना के जरिए महिलाएं 10-20 लोगों का एक समूह बनाती है जो एक संगठन के तौर पर कार्य करता है
  • कई सारी सरकारी योजनाएं जो ग्रामीण क्षेत्रों के गरीबों तक नहीं पहुंच पाती । समूह के माध्यम से खुद समूह बनकर बचत करेगी । जिससे सरकारी योजना का लाभ मिल सके
  • खुद को आत्मनिर्भर बनाने का योग्य प्रदर्शित होगा
  • महिलाओ को सक्षम बनाया जाएगा और शहरों में पलायन से रोका जा सकेगा ।
  • ग्रामीण युवाओं को अच्छा रोजगार उपलब्ध हो इसके लिए यह योजना उनका भविष्य बदलने में कारगर है

कैसे करें रजिस्ट्रेशन

राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन एक समूह के माध्यम से संचालित की जाती है इसके लिए अगर आप उत्साहित है और इस योजना का लाभ लेना चाहते है तो आपको राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन की आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर रजिस्ट्रेशन करना होगा । जिसमें पदाधिकारी द्वारा, बचत, मीटिंग में उपस्थिति , पंजिका आदि मानकों को ध्यान रखा जाता है

Leave a Comment