Make in India Initiative: ‘मेक इन इंडिया’ योजना के बारे में जानिये हर बात

Make in India Programme : मेक इन इंडिया मोदी सरकार की सबसे महत्वाकांक्षी योजना में से एक है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) ने 25 सितंबर, साल 2014 में मेक इन इंडिया कार्यक्रम (Make in India Programme) की जोरों शोरों से शुरुआत की थी। इस योजना का मुख्य उद्देश्य दुनिया भर की तमाम बड़ी कंपनियों को भारत में Invest करने के लिए प्रोत्साहित करना है।

क्या होगा विदेशी कंपनियों के निवेश करने से?

अगर विदेशी कंपनियां भारत में निवेश करेंगी और अपने प्रोडक्ट का उत्पादन करेगी तो इससे लाखों भारतियों को रोज़गार मिलेगा और भारत की अर्थव्यवस्था को भी बल पहुँचेगा।

साफ सरल शब्दों में कहें तो यह योजना की मंशा है अर्थव्यस्था के विकास की रफ्तार बढ़ाना, औद्योगीकरण और उद्यमिता को स्थापित करना ताकि जन जन तक इसका लाभ पहुंचे। कुलमिलाकर यह योजना भारत को समृद्धि की ओर ले जाने के लिए है।

भारत का निर्यात उसके आयात से कम होता है। यानी भारत का Export उसके Import से कम होता है। लेकिन मेक इन इंडिया योजना ने इस ट्रेंड को बदला है।

कौन से क्षेत्र हैं शामिल?

इसमें 25 क्षेत्र शामिल हैं –

ऑटोमोबाइल अवयव

विमानन

जैव प्रौद्योगिकी

रसायन

निर्माण

रक्षा विनिर्माण

इलेक्ट्रिकल मशीनरी

इलेक्ट्रॉनिक प्रणालियाँ

खाद्य प्रसंस्करण

सूचना प्रौद्योगिकी और बिजनेस प्रोसेस प्रबंधन

चमड़ा

कल्याण

मीडिया और मनोरंजन

खनिज

तेल और गैस

फार्मास्यूटिकल्स

बंदरगाह और शिपिंग

रेलवे

नवीकरणीय ऊर्जा

सड़क और राजमार्ग

अंतरिक्ष और खगोल विज्ञान

कपड़ा और परिधानों

तापीय उर्जा

पर्यटन और आतिथ्य

जानिए ‘मेक इन इंडिया’ का नकारात्मक पक्ष

बाकि योजनाओं की तरह मेक इन इंडिया के भी नकारात्मक पहलू हैं। भारत जैसे एक कृषि प्रधान देश में इस योजना का नकारात्मक प्रभाव दिखा है। ऐसा इसलिए क्योंकि भारत की अर्थव्यवस्था कृषि आधारित अर्थव्यवस्था है। जानकारों का कहना है कि सरकार की इस पहल का सबसे नकारात्मक प्रभाव भारत के कृषि क्षेत्र पर पड़ा है।

इस पहल में भारत के कृषि क्षेत्र को पूरी तरह से दरकिनार कर दिया गया है। इसके अलावा इस योजना से छोटे उद्यमियों को भी नुकसान पहुंचा है। क्योंकि ‘मेक इन इंडिया’ मुख्य रूप से विदेशी कंपनियों को भारत में उत्पादन करने के लिये प्रेरित करती है, जिसके कारण भारत के छोटे उद्यमियों पर असर दिखना तय है। क्योंकि इससे उनके बने बनाये ‘मार्केट’ को हानि पहुंचेगी।

Leave a Comment