Employee Pension Scheme: दोगुनी होगी पेंशन, EPS पर जल्द हटेगी 15 हजार की लिमिट- जानिए नया अपडेट

Employee Pension Scheme – EPS मतलब एम्पलाई पेंशन स्कीम इसके तहत निवेश पर लगे कैप को हटाने को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने कमर कस ली है साथ ही सुनवाई का दौर भी जारी है कर्मचारियों को अब देश की सबसे बड़ी अदालत सुप्रीम कोर्ट से उम्मीद जता रहे है, लेकिन क्या आपको पता है कि इस सुनवाई और मामले का आपसे क्या लेना देना है इससे आपकी जिंदगी में क्या फर्क पड़ेगा वो सभी बातें आपको हम बताएंगे ।

क्या मतलब है EPS सीमा को हटाने का मामला

हम इसके फायदे और नुकसान से आपको वाकिफ कराएं उससे पहले ये जान लेते है कि आखिर यह मामला है क्या?… तो चलिए जानते है दरअसल अभी तक अधिकतम पेंशन योग्य वेतन 15 हजार रुपए प्रति महीने तक सीमित थी,मसलन फिर चाहे सरकारी सेवा मे कर्मचारी की पेंशन कितनी भी हो लेकिन पेंशन का गुणा भाग 15 हजार ही होगा ।

बस यही मामला है इसी को लेकर सुप्रीम कोर्ट में मामला चल रहा है अब थोड़ा पीछे चलते है फिर कोर्ट की प्रक्रिया को समझते है बीते 12 अगस्त को भारत संघ और कर्मचारी भविष्य निधि संगठन की तरफ से याचिका दायर कि गई थी और उस समय उस बैच कि सुनवाई स्थगित कर दी गई थी । जिसमे कहा गया था कि किसी भी कर्मचारी की पेंशन को 15 हजार तक सीमित नहीं किया जा सकता और फिर 17 अगस्त 2021 से यह सुनवाई अभी तक चल रही है ।

क्या है इसके नियम

आसान भाषा में आपको बताते है जब हम किसी नौकरी पर लगते है तो EPF के सदस्य बन जाते है,साथ ही उसी समय हम EPS के सदस्य भी बन जाते है अब खेल समझिए । कर्मचारी अपने मूल वेतन का 12% हिस्सा EPF में देता है लगभग इतना ही हिस्सा कम्पनी की ओर से दी जाती है। उसका एक हिस्सा मतलब 8.33% में भी जाता है अब गुणा भाग समझिए थोड़ा सा , अभी उपर हमने जो समझाया की अभी पेंशन योग्य वेतन अधिकतम 15 हजार है हर महीने वेतन का हिस्सा 15000 का 8.33% मतलब 1250 होता है ।

थोड़ा और समझिए- जब कर्मचारी सेवानिवृत्त होता है तो तब भी पेंशन की गणना करने के लिए अधिकतम वेतन 15 हजार ही माना जाता है इसके हिसाब से अगर नजर डाली जाए तो कर्मचारी पेंशन वो भी EPS के तहत पेंशन 7500 ही पा सकता है।

पेंशन की कैलकुलेशन क्या है ( EPS Calculation)

अगर आप एक कर्मचारी है तो आपके लिए सबसे महत्वूर्ण बात ध्यान देने है यह है कि अगर आपने EPS में योगदान बीते 1 सितम्बर 2014 से पहले शुरू किया है तो फिर आपके लिए पेंशन योगदान के लिए महीने के वेतन की अधिकतम सीमा 6500 होगी । अगर एक सितम्बर 2014 के बाद जुड़े है तो 15000 होगी । समझ आया आपको , चलिए आपको कैलकुलेशन के जरिए समझाते है

EPS और उसका कैलकुलेशन फार्मूला (EPS Formula)

इसको समझने से पहले उपर जितनी बातें आपको बताई गई है उसे एक बार फिर से ध्यानपूर्वक पढिए ताकि समझने में आसानी हो। महीने की पेंशन =(पेंशन योग्य सैलरी ×EPS योगदान का साल )/ 70 मानते है अगर कर्मचारी ने एक सितम्बर 2014 से EPS में योगदान शुरू किया तो उसका पेंशन योगदान 15 हजार होगा अंत में थोड़ा अच्छे से समझिए , उसने 30 साल नौकरी की
मंथली पेंशन =15000×30/7 =6428

खास बातें

एक बात पूर्ण रूप से ध्यान रहे कि कर्मचारी की 6 महीने या इससे ज्यादा कि नौकरी एक साल मानी जाएगी। अगर इससे कम हुआ तो गिनती के दायरे में नहीं आयेगा। अगर उसने 19 साल 7 महीने काम किया तो 20 साल मना जाएगा अगर 19 साल 5 महीने किया तो 19 साल ही माना जाएगा।

Leave a Comment