History of Bihar : बिहार का यह इतिहास आपको मालूम नहीं होगा | History & World Renowned Universities of Bihar

बिहार का इतिहास समृद्धशाली रहा है। वर्तमान में भले ही लोग बिहार को हेय दृष्टि से देखते हैं मगर बिहार एक वक़्त भारत और भारतीयता का अभिन्न अंग हुआ करता था। हाँ, बेशक आज भी बिहार भारत और भारतीयता का अभिन्न अंग है मगर कहीं ना कहीं बिहार ने वो चमक खो दी है जिसके लिए बिहार का नाम पूरी दुनिया में लिया जाता था। आज हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से बिहार के उस गौरवशाली इतिहास के बारे में बताएंगे जिसे जानना हर भारतीय के लिए जरूरी है।

  • किवदंतियों की मानें तो मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्रीराम की अर्धांगिनी माता सीता का जन्म बिहार के मिथिला में हुआ, जिसे आज सीतामढी़ कहा जाता है। सीता राजा जनक की पुत्री थीं। जनक के राज्य में आधुनिक उत्तर-मध्य बिहार के मुजफ्परपुर, सीतामढी, समस्तीपुर, मधुबनी जैसे वर्तमान जिले शामिल थें। अग्निपरीक्षा के बाद जब सीता वनवास पर चली गईं तो उन्हें बिहार के उस वनक्षेत्र में महर्षि वाल्मीकि के आश्रम में प्रश्रय मिला, जो अभी गंडक के किनारे बसे ‘वाल्मीकि नगर’ के नाम से जाना जाता है। माता सीता ने यहीं अपने दोनों पुत्रों लव-कुश को जन्म दिया।
  • दुनियाभर में अपनी पैठ बना चुके बुद्ध धर्म की जड़े बिहार के बौद्ध गया से जुड़ी हैं। यही नहीं जैन धर्म के संस्थापक भगवान महावीर का जन्म राजधानी पटना के दक्षिण-पश्चिम में स्थित पावापुरी कस्बे में हुआ और उन्हें निर्वाण भी बिहार की धरती पर ही प्राप्त हुआ था।
  • सिखों के दसवें और आखिरी ‘गुरु’ गुरु गोबिंद सिंह का जन्म भी राजधानी पटना के पूर्वी भाग में स्थित हरमंदिर में हुआ, जहां आज एक भव्य गुरुद्वारा भी है। इसे आज पटना साहिब के रूप में भी जाना जाता है, जो सिखों के पांच पवित्र स्थल (तख्त) में से एक है।
  • ब्रिटिश शासन में बिहार बंगाल प्रांत का हिस्सा था, जिसके शासन की बागडोर कलकत्ता में थी। हालांकि इस दौरान पूरी तरह से बंगाल का दबदबा रहा लेकिन इसके बावजूद बिहार से कुछ ऐसे नाम निकले, जिन्होंने राज्य और देश के गौरव के रूप में अपनी पहचान बनाई। इसी सिलसिले में बिहार के सरन जिले के जिरादेई के रहने वाले भारतरत्न डॉ. राजेंद्र प्रसाद का नाम आता है। वह भारत के पहले राष्ट्रपति बने।

World Renowned Universities of Bihar

  1. नालंदा मुक्त शिक्षा यूनिवर्सिटी
  2. मगध यूनिवर्सिटी, बोध गया
  3. पूर्णिया यूनिवर्सिटी
  4. ललित नारायण मिथिला यूनिवर्सिटी
  5. वीर कुँवर सिंह यूनिवर्सिटी, आराह
  6. पपाटलिपुत्र युनिवर्सिटी, पटना
  7. आर्यभट नॉलेज यूनिवर्सिटी, पटना
  8. तिलका मांझी भागपलूर यूनिवर्सिटी
  9. बाबासाहेब भीमराव आंबेडकर यूनिवर्सिटी, मुजफ्फरपुर
  10. जय प्रकाश यूनिवर्सिटी, छपरा

Leave a Comment