WHAT IS PALM OIL : क्या होता है पॉम ऑयल, जानिए इसके फायदे और नुकसान

 

 

पॉम ऑयल : भारत में एक ऐसा वर्ग है जो दशकों सरसो का तेल खा रहा है एक ऐसा वर्ग भी है जो पॉम ऑयल पर निर्भर है।  भारत पॉम ऑयल का एक बड़ा मार्केट है यहां पॉम ऑयल खाने वालों की संख्या कई गुना है लेकिन क्या आप जानते है कि यह पॉम ऑयल क्या है कैसे बनता है इसके क्या फायदे और नुकसान है हम आपको पूरी जानकारी देंगे।

क्या होता है पॉम ऑयल

सरसों और सूरजमुखी की तरह यह एक वनस्पति तेल है जिसका उपयोग खाने के रूप में ज्यादा किया जाता है कई अन्य उद्योग मे यह पॉम ऑयल का इस्तेमाल होता है कई साबुन की कम्पनी पॉम ऑयल की मात्रा साबुन में मिलती है इसका तेल ताड के पेड़ के बीजों से निकाला जाता है इसका उपयोग मुख्य रूप से खाने बनाने के रूप में होता है।  होटल , रेस्टोरेंट , आदि जगहों में खाने के रूप में ज्यादा होता है दुनियाभर में पॉम ऑयल 9 करोड़ टन पैदा होता है इसके उत्पादन में इंडोनेशिया पहले और मलेशिया दूसरे स्थान पर है।

पॉम ऑयल के फायदे और नुकसान क्या है

किसी भी चीज के फायदे और नुकसान दोनों होते है आइए जानते है पहले फायदे ।

कैंसर के उपचार मे कारगर है

डाक्टरों और रिसर्चरों के अनुसार ताड के तेल का उपयोग कैंसर के लिए काफी उपयोगी है। इसमें टेकोफरोल नाम का एक तत्व पाया जाता है यह विटामिन ए के रूप में है यह एंटीऑक्सीेंट्स के रूप में काम करता है मुक्त कणों को नष्ट करने में शक्तिशाली रक्षात्मक यौगिक है । इससे कैंसर की कोशिकाओं के विकास में मदद मिलती है और कैंसर रोग से बचाने में कारगर है

आंखो की रौशनी के लिए कितना अच्छा है

पॉम ऑयल मे बहुत से ऐसे एंटी ऑक्सिडेंट पाए जाए है  जो आंखों के स्वस्थ के लिए बेहत आवश्यक है ये सभी कोशिकाओं को एक नई ऊर्जा देते है आंखो से जुड़ी बीमारी मे अच्छी भागीदारी निभाते है

दिल, लीवर और किडनी के लिए ख़तरनाक है

पिछले कई सालों में भारत सहित दुनियाभर में पॉम ऑयल की मांग ने जोर पकड़ा है इसे खाने वाले लोगों की संख्या अधिक है । लेकिन एक रिपोर्ट की माने तो पॉम ऑयल सेहत के लिए अब घातक बन रहा है शरीर को अंदर से तोड रहा है दिल , लीवर और किडनी में इसका बुरा प्रभाव देखा गया । कई अस्पतालों। मे रोगियों कि संख्या बढ़ी है। पेट सम्बन्धी बीमारी भी पॉम ऑयल से हो रही है । इसलिए इसका सेवन कम कीजिए ।

Leave a Comment