पांचवे चरण में सोनेलाल पटेल का परिवार एक साथ मैदान में , किसके साथ जनता

 

उत्तर प्रदेश में चल रहे विधानसभा चुनाव के चार चरण पूरे होने के बाद सियासी पार्टियों कि सूबे में जीत की स्थित धीरे धीरे साफ हो रही है बीजेपी की सहयोगी पार्टी अपना दल के लिए पांचवा चरण बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि अपना दल के संस्थापक सोनेलाल पटेल का परिवार पांचवे चरण के मतदान में एक दूसरे के सामने होंगे । कुनबे मे चल रही राजनीति वर्चस्व के जंग की परीक्षा है इस चरण में तय होगा कि दो धड़ों में बटें कुनबे में जनता किसके साथ होगी । सोनेलाल पटेल की पत्नी कृष्ण पटेल अपना दल कमेरावादी पार्टी की अध्यक्ष है तो वहीं अनुप्रिया पटेल भाजपा की सहयोगी पार्टी अपना दल से है और तीसरी बेटी पल्लवी पटेल समाजवादी के टिकट पर है मतलब साफ है पूरा परिवार एक दूसरे के विरुद्ध खड़ा है सोनेलाल पटेल के निधन के बाद पार्टी में वर्चस्व की लड़ाई को लेकर परिवार में छिड़ी जंग अपना दल इस बीच किसी के पास नहीं रह पाया । मूल अपना दल विवादों में है आपको बता दें कि परिवार में अब तक दो नए दल है सोनेलाल वाली अपना दल पार्टी की कमान बेटी व केंद्रीय राज्यमंत्री अनुप्रिया पटेल कर रही है तो वहीं उनकी पत्नी अपना दल करोमवादी की राष्ट्रीय अध्यक्ष है मतलब साफ है कि अनुप्रिया पटेल बीजेपी के साथ गठबन्धन में है तो कृष्णा पटेल सपा के साथ है ।

Show Contents

कृष्णा पटेल को सपा के साथ जीत की उम्मीद

स्वर्गीय सोनेलाल लाल पटेल की पत्नी कृष्णा पटेल इसी चरण की प्रतापगढ़ की सदर सीट से सपा के साथ अपने गठबन्धन के तहत अपनी पार्टी मतलब अपना दल करोमवदी की प्रत्याशी है इस सीट से मौजूदा विधायक अनुप्रिया पटेल की पार्टी अपना दल से है आपको बता दें कि मां के चुनाव मैदान में आने पर अनुप्रिया पटेल ने पूरे समझौते के साथ मिली इस सीट को भाजपा को वापस कर दिया था अब भाजपा को प्रत्याशी वापस कर दिया था लेकिन अब बीजेपी का प्रत्याशी यहां पर सोनेलाल की पत्नी कृष्ण पटेल मुकाबले में है

डिप्टी सीएम के सामने पल्लवी पटेल

सोनेलाल पटेल की दूसरी बेटी पल्लवी पटेल एक ऐसी सीट और नेता के सामने खड़ी है जो चर्चा में है पल्लवी पटेल को समाजवादी पार्टी ने सिराथू सीट से केशव प्रसाद मौर्य के सामने खड़ा किया है पल्लवी पटेल खुद को अपना दल का नेता बताती है अपनी मां से रिश्ते अच्छे है लेकिन अपनी बहन से दूरियां है कई जानकर कह रहे है कि पल्लवी पटेल को अपने आपमें राजनीति भविष्य में स्थापित करने का यह बड़ा और सुनहरा मौका है अगर चुनाव जीतती है तो पहली बार विधायक बनेंगी ।

अनुप्रिया के ज्यादातर प्रत्याशी इसी चरण में

भाजपा ने अपनी सहयोगी अपना दल को इस विधानसभा चुनाव में कुल 17 सीटें दी है इसने सबसे अधिक प्रत्याशी 7 विधायकों का भविष्य इसी चरण में तय होगा ।इसलिए यह अनुप्रिया पटेल के लिए भी बहुत अहम है उत्तर प्रदेश और देश की राजनीति में अनुप्रिया पटेल जाना माना नाम है और अनुप्रिया की लोकप्रिय बहन और मां से अलग है ऐसे में इस चरण में अनुप्रिया और अपना दल की साख दांव पर है

पढ़े मिलती जुलती खबरें   UP Eection 2022 : एक दिन में पांच जगह पर योगी आदित्यनाथ ने जनता को संबोधित किया

 

 

Leave a Comment

40 हजार रुपये के अंदर टॉप 5 बेहतरीन फोन। जानिए सभी स्पेसिफिकेशन Dell ने लॉन्च किया अपना नया Inspiron 14 7420 2-in-1 With Active Pen गरेना फ्री फायर रिडीम कोड आज के लिए, 25 जून: जल्दी करें सभी कोड जांचें विक्रांत रोना movie रिलीज की तारीख, कास्ट: सभी जानकारी जानें 23rd june 2022 अंतरराष्ट्रीय ओलम्पिक दिवस : सभी जानकारी प्राप्त करें