WHAT IS B2B /B2C : क्या होता है B2B /B2C , दोनों में क्या है अंतर , पूरी जानकारी

 

 

B2B /B2C : अगर आप खुद सक्षम बनना चाहते है यानी खुद का व्यापार करना चाहते है व्यापार शुरू करने का विचार आपके दिमाग में है खुद की कम्पनी खोलने की मंशा जाहिर हो रही हो। आपको पहले यह तय करना है कि कौन सा उत्पाद बेचा जाए क्या उस उत्पाद से ग्राहक आकर्षित होगा । इसका विस्तार कैसे करना है याद रखिए किसी भी व्यापार को शुरू करने के किए परिदृश्य में शामिल होना जरूरी है आपको उद्योग के बारे में सीखना होगा । एक ऐसा उद्योग भी है जिसमे B2B /B2C दोनों शामिल है व्यवसाय के दो रूप एक दूसरे के विपरीत समांतर हो रहे है । यदि आपने अभी तक उद्योग मे शामिल नहीं किया है तो आपको B2B /B2C के कुछ पहलू आपको भ्रमित कर सकते है। नहीं समझे कोई बात नहीं आपको हम इस लेख के जरिए पूरी बात समझ देंगे । दोनों को एक एक करके समझते है ।

B 2 B क्या होता है

आप B 2 B को हिंदी में बिजनेस टू बिजनेस कह सकते है यह उन व्यवसायों का वर्णन करता है जिनके ग्राहक भी व्यवसाई है  साधारण बात कहें तो यह वाणिज्यिक लेनदेन है जिसने आपूर्तिकर्ता , निर्माता , ठीक व्यापारी और निर्माता , थोक व्यापारी और खुदरा विक्रेता मतलब दो या दो से अधिक व्यसयिक संगठन होते है इसमें रसद एजेंसी,विज्ञापन और सॉफ्टवेर एजेंसी शामिल है  

B 2 C क्या होता है

B 2 C का मतलब बिजनेस टू कंज्यूमर होता है वाणिज्यिक लेनदेन के रूप में व्यक्तिगत ग्राहक के लिए वस्तु और सेवा का विप्रण किया जाता है  B 2 C व्यवसायिक अंतिम उत्पाद सीधे  उपभोक्ता को बेचते है क्योंकि यहां वाणिज्यिक लेनदेन  B 2 B से कम होता है । 
आप एक उपभोक्ता के रूप में  B 2 B  की तुलना में B 2 C से अधिक परिचित होते है ।

 

B 2 B और B 2 C में क्या है अंतर

इन दोनों में बहुत अंतर है आपको आसान तरीके से समझाते है । B 2 C के दर्शक उपभोक्ता है ये व्यक्तिगत उद्देश्य के लिए उत्पाद और सेवाएं खरीदते है इनके उपभोक्ता रोजमर्रा के लोग होते है जो विभिन्न वर्ग में होते है साथ ही वे अंतिम ग्राहक होते है जो बाद में बिक्री उद्देश्य के लिए किसी अन्य निर्माण के लिए खरीदी गई वास्तु का उपयोग नहीं करते है और B 2 B के दर्शक B 2 C के समकक्ष कि तुलना में अधिक महत्वपूर्ण है इसमें छोटे और मध्यम उद्यम सहित सभी आकार के फर्म और संगठक उत्पाद खरीदते है मतलब तत्काल उपयोग के लिए नहीं करते है। B 2 B में   आमतौर पर B 2 C  की तुलना में अधिक मूल्य के ग्राहक होते है ।क्योंकि इसके उत्पाद बड़े और जटिल होते है

क्या है B 2 B और B 2 C में समानताएं

ये दोनों कभी कभी आपको भ्रमित कर सकते है और कई लोग इसका शिकार हुए । काफी जटिल है। ये दोनों आपके लिए मार्केटिंग के लिए सबसे आसान और भ्रमित करने वाली मार्केटिंग ही हो सकती है ।  B 2 B और B 2 C  हमेशा अपने ग्राहकों से संचार की खेती करते है ।इसलिए इन दोनों की रणनीति ग्राहकों पर निर्भर होती है । लेकिन दोनों यह जानते है कि ग्राहकों को खींचने की कुंजी क्या है और ग्राहक ईमानदारी से व्यापक रूप से आ जाते है एक बार बात और अगर दोनों बजरिया है तो सफलता पूर्वक मार्केटिंग के लिए व्यक्तिगत अपने ग्राहक की पहचान करना आवश्यक है । आप एक उपभोक्ता के रूप में  B 2 B  की तुलना में B 2 C से अधिक परिचित होते है ।

 

 

 

Leave a Comment