WHAT IS ACCOUNTS RECEIVABLE: क्या होता है प्रप्या खाता , जानिए इसकी विशेषताएं पूरी जानकारी

 

प्रप्या खाता : दोस्तों कई लोग ऐसे है जिन्होंने प्रप्या खाता का नाम तक नहीं सुना होगा। इसकी जानकारी खासकर अकाउंट से जुड़े लोग ही जानते है प्रप्या खाता उसे कहते है जैसी किसी एक कम्पनी ने क्रेडिट  पर बेची गई वस्तुओं या सेवाओं के लिए प्राप्त करने के हकदार होते है अगर आप दूसरे शब्दो मे इसे समझे तो यह वह राशि है जो आपके ग्राहक के द्वारा संविदात्मक दायित्व के सम्बन्ध में आप पर बकाया है अक्सर प्रप्या खाता धारक को देनदार ,व्यापार देनदार , प्रप्य बिल या व्यापार के रूप में जाना जाता है

क्या होती है लेखा प्रप्या प्रक्रिया

आपको बता दें कि प्रप्या खातो की प्रक्रिया व्यवसाय से व्यवसाय में भिन्न होती है हमने नीचे सामान्य चीजें सूची के तहत बताई है जो आपको खातों की प्रप्या प्रक्रिया देखने को मिलेगी । जिसके बाद अधिकांश व्यवसाय होंगे ।

* क्रेडिट पॉलिसी के अनुसार ग्राहक को क्रेडिट पर चालान करना ।
* क्रेडिट दिनों या नियत तारीख को केपचर करना या रिकॉर्ड करना ।
* अनिवार्य और अनुग्रह सूची 
* अतिदेय बिलों को बनाना जो काफी समय से लंबित पड़े है 
* लंबित बिलों के विवरण के साथ अनुस्मारक पत्र भेजना 
* भुगतान होने पर रसीद का लेखा जोखा रखें ।

कितनी होती है प्रप्या खातों की लागत

* कम्पनी को अतरिक्त धन की जरूरत होती है क्योंकि नगद प्रपया मे अवरुद्ध होता है जिसमे ब्याज य अवसर लागत के रूप में शामिल होता है 
* प्रशासनिक लागत जैसे रिकॉर्ड रखना ,अनुस्मारक पत्र भेजना ,
* संग्रह लागत

क्या है प्रप्या खाता का महत्व

प्रप्या के प्रबन्धन से तात्पर्य ग्राहक पर देय ऋण की योजना के नियंत्रण से है।  सरल शब्दों में समझे तो उधर बिक्री । याद रखिए कि बिक्री के लिए आपके आदेश का सफल समापन तभी निर्धारित होता है जब आप अपनी बिक्री को नगद मे परिवर्तित करते है और जब तक आपकी ब्रिकी नगद मे परिवर्तित नहीं हो जाती है तब तक आपको कितना प्राप्त करना है ऐसा करने के लिए खाता प्रप्या प्रबन्धन की आवश्यकता होती है। जिसे हम लोकप्रिय से क्रेडिट प्रबन्धन प्रणाली के रूप में जाना जाता है

 

 

Leave a Comment