PolicyBazaar IPO और Share price: जानिए पॉलिसी बाजार में पैसा लगाना कैसा

पॉलिसीबाजार और पैसाबाजार की मूल इकाई पीबी फिनटेक लिमिटेड लिस्टिंग के बाद दुनिया में सबसे मूल्यवान बीमा बाजार के रूप में उभरी है। स्टॉक सोमवार को नेशनल स्टॉक एक्सचेंज में 1,203 रुपये पर बंद हुआ, जो इसके आईपीओ मूल्य से 22.74% अधिक है, कंपनी का मूल्य 7.27 बिलियन डॉलर या 54,043 करोड़ रुपये है।
पीबी फिनटेक, जो पॉलिसीबाजार और पैसाबाजार चलाता है, ने सोमवार को एक्सचेंजों पर अपनी शुरुआत की, जोमैटो और नायका के बाद भारत में सूचीबद्ध होने वाला तीसरा हाई-प्रोफाइल उपभोक्ता इंटरनेट स्टार्टअप बन गया। बता दें कि पॉलिसीबाजार ने टेक्नोलॉजी, डेटा और नवाचार की शक्ति का लाभ उठाते हुए बीमा और लेंडिंग प्रोडक्ट के लिए भारत का सबसे बड़ा ऑनलाइन प्लेटफॉर्म बनाया है। कंपनी बीमा, ऋण और अन्य वित्तीय उत्पादों तक सुविधाजनक पहुंच प्रदान करती है और इसका उद्देश्य भारतीय परिवारों में मृत्यु, बीमारी और क्षति के वित्तीय प्रभाव के बारे में जागरूकता पैदा करना है।
पॉलिसी बाजार आईपीओ क्या है?

एक Initial Public Offering आरंभिक सार्वजनिक पेशकश (आईपीओ) तब होती है जब कोई कंपनी पहली बार जनता के लिए आम स्टॉक या शेयर जारी करती है। यह वह प्रक्रिया है जहां एक निजी तौर पर आयोजित कंपनी अपने स्टॉक की शुरुआती बिक्री के साथ सार्वजनिक रूप से कारोबार करने वाली कंपनी बन जाती है। आईपीओ एक उपकरण है जिसका उपयोग कंपनियां भविष्य में उपयोग के लिए निवेश के माध्यम से पूंजी सुरक्षित करने के लिए करती हैं। ज्यादातर मामलों में, इस निवेश का उपयोग व्यवसाय के विस्तार या सुधार के लिए किया जाता है। ऐसे ही पॉलिसी बाजार ipo है इसमें Info Edge, Premji Invest, Softbank, Tiger Global और Temasek जैसे दिग्गज निवेशकों ने पैसा लगा रखा है।

पॉलिसी बाज़ार प्राइस बैंड क्या है?

(Policprice band) प्राइस बैंड एक प्राइस फ्लोर और एक कैप है जिसके बीच एक विक्रेता खरीदारों को एक सुरक्षा पर बोली लगाने देगा, आमतौर पर एक प्रारंभिक सार्वजनिक पेशकश (आईपीओ) के दौरान ही ये होता है।

पॉलिसी बाजार आईपीओ के लिए “Minimum Order Quantity” क्या है?

Minimum Order Quantity, जैसा कि नाम से पता चलता है, एक आईपीओ में बोली लगाने के दौरान निवेशक न्यूनतम शेयरों की संख्या लागू कर सकते हैं। यदि निवेशक अधिक शेयरों के लिए बोली लगाना चाहते हैं, तो वे शेयरों के आईपीओ मार्केट लॉट (लॉट साइज या आईपीओ बिड लॉट) के गुणकों में आवेदन कर सकते हैं।

अपना शेयर अलॉटमेंट स्टेटसबनिवेशक रजिस्ट्रार की वेबसाइट लिंक इनटाइम इंडिया प्राइवेट लिमिटेड या बीएसई की वेबसाइट पर चेक कर सकते हैं.

Link Intime India पर चेक करें अलॉटमेंट स्टेटस

निवेशक अलॉटमेंट फाइनल होने के लिंक इनटाइम इंडिया वेबसाइट के आईपीओ स्टेटस सेक्शन https://linkintime.co.in/MIPO/Ipoallotment.html में चेक कर सकते हैं।
आपको यहां ‘Policybazaar — IPO’ सेलेक्ट करना होगा।

अब आप एप्लीकेशन नंबर या डीपी आईडी/क्लाइंट आईडी या पैन, इन तीनों में से कोई एक विकल्प सेलेक्ट करे। ।अब डिटेल्स भरने के बाद
कैप्चा कोड भरकर सबमिट कर दें।अब आपको स्क्रीन पर जितने शेयरों के लिए अप्लाई किया गया था और कितने शेयर अलॉट हुए हैं, इसकी पूरी जानकारी मिल जाएगी।

बीएसई पर कैसे देखें करें अलॉटमेंट

निवेशक स्टॉक एक्सचेंज बीएसई की वेबसाइट https://www.bseindia.com/investors/appli_check.aspx पर भी अपना अलॉटमेंट स्टेटस चेक कर सकते हैं।

इसके लिए आपको इक्विटी और ड्राप डाउन मेन्यू में से आईपीओ चुनना होगा।
यहां आपको अपना एप्लीकेशन नंबर और पैन भरना होगा।
इसके बाद पहले आपको ‘I am not a Robot’ पर क्लिक करना होगा। इतना करने के बाद आपको सर्च पर क्लिक करना होगा। अब आपकी स्क्रीन पर स्टेटस डिटेल्स आ जाएगी। आप अब अपने शेयर की जानकारी ले सकते है

बता दें कि पॉलिसी बाजार की स्थापना साल 2008 में हुई थी। कंपनी ने एसएमई (SMEs), एमएसएमई (MSMEs) और बड़े कॉरपोरेट्स के लिए एक नए ग्रुप हेल्थ इंश्योरेंस कार्यक्रम की घोषणा की थी। पॉलिसी बाजार कंपनी इंश्योरेंस एग्रीगेटर के रूप में काम करती थी। इसके अलावा कंपनी हाल ही में यह एक इंश्योरेंस ब्रोकर बन गई। पॉलिसी बाज़ार कंपनी में सॉफ्टबैंक, इन्फो एज, टेमासेक, टेनसेंट, टाइगर ग्लोबल जैसे कई बड़े निवेशक हैं। कंपनी की कामयाबी और आईपीओ की बढ़त से निवेशकों में काफी उत्साह देखने को मिल रहा है।

एक निवेशक को आईपीओ में शेयरों के लिए किस श्रेणी में बोली लगानी चाहिए?

अगर कोई निवेशक 2 लाख रुपये से कम की बोली लगाना चाहता है, तो उसे रिटेल सेगमेंट में आवेदन करना होगा। यदि कोई निवेशक 2 लाख रुपये से अधिक की बोली लगाना चाहता है, तो उसे एचएनआई सेगमेंट में आवेदन करना होगा।

कट ऑफ प्राइस क्या है?

कट-ऑफ मूल्य ऑफ़र मूल्य है, जिसे कंपनी द्वारा बुक रनिंग लीड मैनेजर्स (बीआरएलएम) के परामर्श से अंतिम रूप दिया जाता है, जो कि प्राइस बैंड के भीतर कोई भी कीमत हो सकती है। कट-ऑफ मूल्य पर लागू होने का मतलब है कि निवेशक कंपनी द्वारा बुक-बिल्डिंग प्रक्रिया के अंत में जो भी कीमत तय की जाती है, उसका भुगतान करने के लिए तैयार है।

कट-ऑफ मूल्य पर आवेदन करते समय, एक निवेशक को बोली लगाते समय उच्चतम कीमत चुकानी पड़ती है। यदि कोई कंपनी आईपीओ के लिए मांगी गई उच्चतम कीमत से कम अंतिम कीमत तय करती है, तो बचे हुए पैसे खुदरा निवेशक को वापस कर दीए जाते है।

क्या एक निवेशक एक ही नाम के कई आवेदनों के माध्यम से आईपीओ में आवेदन कर सकता है?

नहीं, एक व्यक्ति आईपीओ के लिए एक ही डीमैट/पैन के साथ कई बार आवेदन नहीं कर सकता है। यदि कोई निवेशक एक ही डीमैट खाते या एक ही पैन नंबर के साथ कई आवेदनों के बावजूद आईपीओ में आवेदन करता है, तो उसके आवेदन खारिज कर दिए जाएंगे।

यदि कोई निवेशक कई आवेदनों के लिए आदेश देना चाहता है, तो वह अपने परिवार के सदस्य के नाम के साथ आवेदन कर सकता है। लेकिन, परिवार के सभी पात्र सदस्यों के पास एक डीमैट खाता और एक पैन नंबर होना चाहिए।

Leave a Comment